भदैया कुंड में कपल्स के एक साथ नहाने से दूर हो जाता है मनमुटाव जानिए भदैया कुंड के बारे में रोचक जानकारी। - My shivpuri

Breaking

Saturday, April 25, 2020

भदैया कुंड में कपल्स के एक साथ नहाने से दूर हो जाता है मनमुटाव जानिए भदैया कुंड के बारे में रोचक जानकारी।


भदैया कुंड

   भदैया कुंड

बाणगंगा से चन्द कदमों की दूरी पर यह रमणीक स्थल स्थित है। यहां पहुँचने कर लिए हमे सीढ़ियों से नीचे उतरना पड़ता है। नीचे एक 20 फ़ीट गहरा बड़ा कुंड बना हुआ है। इस कुंड में पहाड़ की अतरंग नलिकाओं से प्रवाहित जल एकत्रित होता है। कुंड से लगा हुआ एक बरामद है जिसमे एक गौमुख के माध्यम से यह जल कुंड तक आता है। प्राचीन मान्यता है कि इस जल के पीने से पेट के अनेक रोगों का निदान हो जाता है, क्योंकि इस जल में विभिन्न प्रकार की जड़ी बूटियों तथा खनिजों के तत्व मिले हुए होते हैं। समीप ही एक मंदिर बना हुआ है कुंड के पास ही एक माध्यम आकर का एक मैदान है जिसमे अनेक लंबे लंबे पेड़ों की छाया दूर तक पसरी रहती है। वर्षाकाल में यहाँ पिकनिक मनाने बालों का तांता लगा रहता है। इस स्थल का प्रारंभिक निर्माण सन 1614 में स्व. श्री माधवराव सिंधिया के शासन काल मे इंजीनियर असगर अली खां की देखरेख में हुआ। बाद में सन 1973-74 में  जीणोद्धार कर इसे वर्तमान स्वरूप दिया गया।

   भदैया कुंड

नगर से 4.6 किलोमीटर दूर तपोवन की सी शांति प्रदान करने बाले इस प्रचीन स्थल के दूसरे सिरे को संख्या सागर झील या चान्दपाठा के नाम से जाना जाता है।

धार्मिक मान्यता के अनुसार इस कुंड में कपल्स के एक साथ नहाने से आपनी मनमुटाव दूर हो जाता है। मनमुटाव एक ऐसी समस्या है जो कपल्स को हमेशा के लिए बड़ी परेशानी बनता है। यदि आप ऐसी परेशानी से जूझ रहे हैं तो भदैया कुंड में स्नान कर झगड़े के झंझट से मुक्ति पा सकते हैं। यहां सैंकड़ों कपल आते हैं और कुंड में स्नान करते हैं। अपने बीच की दूरियों को मिटाने के लिए यहां कपल्स का आना हमेशा लगा रहता हैं।

   भदैया कुंड

   भदैया कुंड

शिवपुरी के इस झरने में चमत्कार की मुख्य वजह चट्टानों से बहकर कुंड में आने वाला पानी है। पूर्व की एक किंवदंती है कि दो प्रेमी जोड़ों ने यहां पर तप किया था और वरदान प्राप्त किया था, कि इस कुंड में जो भी नहाए उसका प्रेम और भी प्रगाढ़ हो जाए, तबसे यहां मान्यता चली आ रही है।

   भदैया कुंड

   भदैया कुंड

भदैया कुंड में नीचे की तरफ एक गौमुख बना हुआ है जिसमें से 12 महिने पानी निकलता रहता है जिसके लिए कहा जाता है कि किसी को नहीं पता की गौमुख में पानी आने का स्त्रोत क्या है। यह पानी इतना शुद्ध है कि पहले इस पानी को बड़े-बड़े कंटेनरों में पैक करके विदेशों में ले जाया जाता था। लोग कहते हैं कि गौमुख से निकलने वाला पानी बहुत ही शीतल और स्वादिष्ट होता है।

आपको ये जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके अवश्य बताएं। और इसे social media पर शेयर करें।

ये भी पढ़े - 


जानिए कारीगरी के उत्कृष्ट नमूने सिंधिया राजघराने की छत्रियों के बारे में।


No comments:

Post a Comment